सोमरस क्या होता है, जानिए इससे जुड़े तथ्य - Bhartiyaweb

सोमरस क्या होता है, जानिए इससे जुड़े तथ्य

सोमरस क्या होता है, जानिए इससे जुड़े तथ्य

दोस्तों जैसे ही हमारे मन मे सोमरस का नाम आता है हमे लगता है जैसे शराब की बात हो रही है, दोस्तों सोमरस का मतलब शराब नही होता। आज हम आपको सोमरस के बारे मे कई रोचक तथ्य बताने वाले हैं जो हमारे वेदों और पुराणों मे लिखे हैं। तो आइए जानते हैं सोमरास क्या होता है और इसका प्रयोग कहाँ किया जाता था।

दोस्तों ये देवताओं द्वारा पिए जाने वाला पेय था, और इसे देवताओं के लिए किए गये यज्ञ मे भी उपयोग किया जाता था। वराहपुराण के अनुसार ब्रहमा ने अश्विनी कुमार को उनकी तपस्या के फलस्वरूप सोमरस का अधिकारी होने का आशीर्वद दिया था। जो व्यक्ति साधना करके देवत्व को प्राप्त होता है उसे भी सोमरस पीने का अधिकार मिलता है। दोस्तों सोमरस के बारे मे इतना रहस्य इसीलिए है क्योंकि इसे गुप्त रखा गया है, कहा जाता है की सोम नाम की लताएं पहाड़ी इलाक़ों मे पाई जाती हैं। हिमाचल, राजस्थान, अफ़ग़ानिस्तान, आदि स्थानों मे जो पहाड़ स्थित हैं वाहा सोम नाम के पौधे और लताएं पाई जाती हैं और इन्ही का उपयोग करके सोमरस बनाया जाता था। जिन लोगों के पास इसे बनाने की कला थी उन्होने आम आदमियों को सोमरस की विधि बताना उचित नही समझा और धीरे धीरे वो लोग दुनिया से चले गये।ऋगवेद के अनुसार सोम नाम की जड़ी बूटी को कूट पीसकर इसका रस निकल लिया जाता है, इसके बाद इसमे गाय का दूध मिलाया जाता है और शहद मिलाया जाता है। इस तरह सोमरस तैयार हो जाता है, इसे देवताओं को चढ़ाने के बाद ऋषि मुनि खुद भी इसका प्रसाद ग्रहण करते थे।

दोस्तों ऋग्वेद के अनुसार सोमरस को पीने से इंसान अपराजय हो जाता है, ना ही उसे कोई शत्रु हरा सकता है ना ही कोई बीमारी। ये बिल्कुल संजीवनी की तरह काम करता है। यदि आध्यात्मिक नजरिए से यह माना जाता है कि सोम साधना की उच्च अवस्था में इंसान के शरीर में पैदा होने वाला रस है। एक सोमरस हमारे भीतर भी है, जो अमृतस्वरूप परम तत्व है जिसको खाया-पिया नहीं जाता केवल ज्ञानियों द्वारा ही पाया जा सकता है। कॉमेंट मे अपनी राय दीजिए और जुड़े रहिए हमारे साथ क्योंकि ये है आपकी अपनी वेबसाइट।

और पढ़ें – शराब पीने के कुछ लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *