176 सालों से बोतल में बंद है ये कटा सिर - Bhartiyaweb

176 सालों से बोतल में बंद है ये कटा सिर

176 सालों से बोतल में बंद है ये कटा सिर, जानिए इसका रहस्य

दोस्तों आपने ये तो सुना ही होगा की प्राचीन काल मे मिश्र मे मरने के बाद मॅमी बनाई जाती थी और शरीर को सड़ने से बचा लिया जाता था। वो मॅमी आज भी सुरक्षित हैं लेकिन क्या आपको पता है की पुर्तगाल मे एक शख्स के कटे हुए सिर को संभलकर रखा गया है और वो आज भी एकदम वैसा ही है जैसा मरने के समय था। चलिए जानते हैं उस इंसान का रहस्य।

दोस्तों इस इंसान का नाम डियोगो अल्विस था। ये कोई महान इंसान नही जिसका सिर बचाकर सुरक्षित रखा गया हो बल्कि डियोगो एक सीरियल किलर था।दोस्तों डियोगो नौकरी की तलाश मे पुर्तगाल के लिज़्बन शहर आया था। नौकरी ना मिलने की वजह से वो पुर्तगाल का सबसे ख़तरनाक सीरियल किलर बन गया था। दोस्तों डियोगो का जन्म सन 1810 मे स्पेन मे हुआ था। कम की तलाश मे डियोगो पुर्तगाल चला गया और काम तलाशने लगा, उसे जब काम नही मिला तो उसने जुर्म की दुनिया मे अपना पहला कदम रखा। इसने पहले लूट पाट का रास्ता अपनाया, डियोगो किसानों को लूटा करता था। उसने एक पुल का चुनाव किया था जहाँ घात लगाकर वो किसानों के वापस लौटने का इंतेज़ार करता था, जो किसान उसे अकेला दिखता था वो उसे मारकर नदी मे फेक देता था। ऐसे करते करते उसने दर्जनों किसानों का खून कर दिया था।

जैसे ही पुलिस को किसानों के बारे मे खबर लगी उन्होने कार्यवाही शुरू करदी और डियोगो 3 साल के लिए कहीं दूर भाग गया। वो यह बात समझ गया था की अकेले उसे ख़तरा है इसीलिए उसने कुछ लोगों को अपने साथ लेकर गैंग बना ली। डियोगो ने बहुत सारे हथियार भी खरीदे जिससे उसने कई दर्जन लोगों को मारा। डियोगो को लोगों को क्रूरता से मरने मे मज़ा आने लगा था। लेकिन बुराई का अंत तो होता ही है दोस्तों, डियोगो को पुलिस ने पकड़ लिया और 1941 मे उसे फाँसी की सज़ा सुना दी गई। फाँसी के बाद वैज्ञानिकों ने कोर्ट से डियोगो का सिर माँग लिया क्योंकि वो उसके मस्तिष्क की जाँच करना चाहते थे, आज तक वो सिर संरक्षित रखा हुआ है जो पुर्तगालियों को यह याद दिलाता है की बुरे काम करने का अंजाम यही होता है।

दोस्तों आशा है आपको ये जानकारी पसंद आई होगी, कॉमेंट मे अपनी राय दीजिए और नयी नयी रोचक जानकारियों के लिए हमारे साथ बने रहिए क्योंकि ये है आपकी अपनी वेबसाइट।

और पढ़ें – इलूमीनती संगठन का रहस्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *