जिसे आप यूँ ही घुमाते हैं उसका असली काम जान लीजिए - Bhartiyaweb

जिसे आप यूँ ही घुमाते हैं उसका असली काम जान लीजिए

ये है मार्केट मे आया नया खिलौना जिसे बच्चे और युवा दो उंगलियों के बीच घुमाते नज़र आते हैं। इसे फिजेट स्पिनर कहते हैं, ये एक साधारण सा यंत्र है लेकिन आज कल बहुत तेज़ी से बिक रहा है। इसे बेचने के लिए ई-कॉमर्स कंपनियाँ दावा कर रही हैं की ये चिंता मिटा देता है और इससे एकाग्रता बढ़ती है लेकिन आप इस धोखे मे मत आना पहले पूरी बात जान लीजिए।

हमने इसके बारे मे थोड़ी छान बीन की तो हमे पता लगा की इस फिजेट स्पिनर से कोई चिंता या तनाव कम नही होता है, इसके उपर ना तो कोई रिसर्च हुई है ना ही किसी भी डॉक्टर ने इसकी पुष्टि की है, ये सिर्फ़ इसे बेचने के लिए किया गया दावा है।विदेश के स्कूलों मे फिजेट स्पिनर पर बैन लगा दिया गया है, उनका कहना है की इससे एकाग्रता बढ़ती नही बल्कि कम होती है। विज्ञान की मानें तो एकाग्रता के लिए शारीरिक हलचल और खेल कूद की ज़रूरत होती है, किसी स्पिनर की नही। इस फिजेट स्पिनर को बेचने के लिए जितने भी दावे किए जा रहे हैं, वो सब बे बुनियाद हैं और उनका कोई भी प्रमाण नही है।लेकिन बच्चों को इस बात से कोई फ़र्क नही पड़ता की इस खिलौने से तनाव कम होता है या नही, यही वजह है की फिजेट स्पिनर मार्केट और इंटरनेट पर तेज़ी से बिक रहे हैं। आपको बता दें की मार्केट मे सौ से अधिक प्रकार के फिजेट स्पिनर मौजूद हैं, जिनकी कीमत 100 रुपय से लेकर 1000 रुपय तक है।दोस्तों सोशियल मीडीया की वजह से आज बच्चों तक हर चीज़ पहुँच जाती है, अगर किसी के पास कुछ है तो दूसरे को भी वो चीज़ चाहिए होती है ये तो बच्चों की आदत ही होती है। सोशियल मीडीया की वजह से एसी चीज़ें ट्रेंड बन जाती हैं।दिल्ली के आर एन कालरा अस्पताल के चेयरमैन डॉ. आर एन कालरा का कहना है की फिजेट स्पिनर को घुमाने से तनाव कम नही हो सकता, ये सिर्फ़ इसे बेचने का एक तरीका है।

अगर आप भी फिजेट स्पिनर लेना चाहते हैं तो ज़रूर लीजिए लेकिन ये बात समझकर की इससे सिर्फ़ मनोरंजन होता है कोई लाभ नही। उमीद है आपको ये जानकारी पसंद आई होगी, कॉमेंट मे अपनी राय दीजिए और जुड़े रहिए हमारे साथ क्योंकि ये है आपकी अपनी वेबसाइट।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *