जानिए इस सोने के पत्थर का रहस्य - Bhartiyaweb

जानिए इस सोने के पत्थर का रहस्य

दोस्तों दुनिया मे ना जाने कितने हैरान कर देने वेल रहस्य छुपे हैं, जिन्हे देखकर अपनी आँखों पर यकीन नही होता। आप भी इस पत्थर को देख कर यही सोच रहे होगे की इतना विशाल पत्थर आख़िर उस चट्टान की ढाल पर कैसे रखा हुआ है, ये सुनहरे रंग का कैसे है और ये पत्थर कहाँ स्थित है, आज हम आपको इस पत्थर के रहस्य के बारे मे पूरी जानकारी देंगे।

दोस्तों इस पत्थर को गोल्डन रॉक के नाम से जाना जाता है और ये बर्मा मे मौजूद है। ये एक बहुत ही प्रसिद्ध बौध तीर्थ स्थान है। ये पत्थर एक चट्टान की ढाल मे सदियों से ऐसे ही रखा हुआ है। इसने ना जाने कितनी बारिश, आँधी, तूफान और भूकंपों को झेला है लेकिन अपनी जगह से नही हिला।दोस्तों इस गोलडेन रॉक पर बुद्ध के भक्तों ने सोने के पत्तों को चिपकाया है इसीलिए यह सोने जैसा दिखाई देता है। यहाँ के लोग इस पत्थर को भगवान का रूप मानकर इसकी पूजा करते हैं। यहाँ दुनिया भर से लोग इस पत्थर को देखने आते हैं। यहाँ के लोगों का मानना है की जो भी इंसान इस पत्थर के पास एक साल मे तीन बार जाता है उसके सभी दुख दूर हो जाते हैं।दोस्तों इस पत्थर के बारे मे कोई नही जनता की ये कहाँ से आया और यहाँ कैसे लटका है, नवंबर से मार्च के बीच यहाँ विशेष रूप से भीड़ इस पत्थर को देखने आती है। दोस्तों यहाँ सुबह से लेकर शाम तक इस पत्थर की अलग अलग रंगों मे झलक देखी जा सकती है, रात होते ही ये पत्थर बेहद सुंदर दिखाई देने लगता है। मार्च के महीने मे पूर्णिमा दिवस तीर्थ यात्रियों के लिए विशेष पर्व माना जाता है। इस दौरान यहाँ 90,000 मोमबत्तियाँ जलाकर भगवान बुद्ध को श्रद्धांजलि दी जाती है। मोमबत्तियों की रोशनी मे यह सुनहरा पत्थर अलग ही सौंदर्य से भर जाता है।गोल्डन रॉक की यात्रा करने वाले भक्त भगवान बुद्ध के लिए भोजन, फल और अगरबत्तियाँ लेकर आते हैं। दोस्तों हैरानी की बात तो यह है की यह पत्थर सदियों से कैसे उस जगह पर बिना हीले रखा हुआ है, अगर आप इसे ध्यान से देखेंगे तो पाएँगे की इस पत्थर का ज़्यादातर हिस्सा तीखी ढलान की तरफ झुका हुआ है, और यहाँ ना जाने कितने भूकंप और तूफान आते रहते हैं लेकिन यह पत्थर अपनी जगह से ज़रा भी नही हिलता।

अगर आपको मौका मिले तो एक बार बर्मा ज़रूर जाइए और इस गोल्डन रॉक को अपनी आँखों से देखकर आइए, कॉमेंट मे अपनी राय ज़रूर दीजिएगा आपको क्या लगता है ये पत्थर अपनी जगह से क्यों नही हिलता, और बने रहिए हमारे साथ क्योंकि ये है आपकी अपनी वेबसाइट।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *